Skip to main content

ये बूढ़े बरगद

आज बालकनी में बैठा हुआ फागुन की गुनगुनी धूप का आनंद उठा रहा था अचानक सड़क पर एक अस्पष्ट सी आवाज सुनाई दी। समझ में नहीं आया तो नीचे झाँकने पर मजबूर हुआ। एक 65-70 साल का कृशकाय वृद्व दिखाई दिया। सर पर साफा बाँधे और हाथ में एक छोटी-सी पेटी सँभाले वह जूतों पर पालिश और मरम्मत करने के लिए कॉलोनी में घूम रहा था। देखकर मन अंत्यंत द्रवित हो उठा।

जिस उम्र में उसे आराम से अपना जीवन बिताना चाहिए, उस उम्र में वह सड़कों पर दो पैसे कमाने की जुगत में घूम रहा था।

अपने आसपास हमे रोज ही ऐसे चरित्र दिखाई देते हैं....कभी रिक्शा वाले बनकर तो कभी चाय वाले बनकर। आखिर कौन-सी ऐसी मजबूरियाँ होती होगी, जिनके कारण हमारे बुजुर्ग इस उमर में भी काम करने के लिए मजबूर हो जाते होंगे। कारण बहुत से गिनाए जा सकते हैं किंतु कुछ भी हो....  समाज के लिए ये एक शर्मनाक बात है।

Comments

  1. आपकी संवेदनशीलता को नमन !

    ReplyDelete
  2. प्रभात की पहली किरण-सा आपका आगमन.....धन्यवाद!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुस्तक मेलाः सिनेमा और साहित्य

गाँव-देहात का एक बालक जे. के. रोलिंग की ‘हैरी पॉटर’ नहीं पढ़ सकता क्योंकि उसकी इतनी क्षमता  नहीं कि वह इसका हिंदी अनुवाद पढ़ने के लिए छह-सात सौ की मोटी रकम खर्च कर सके। उसके लिए सिनेमा ही वह माध्यम है जहाँ वह 20-30 रूपए खर्च कर वही आनंद उठा सकता है जो धनाढ्य वर्ग के किसी पब्लिक स्कूल में जाने वाले बच्चे को इस पुस्तक के मूल अंग्रेजी संस्करण को पढ़ने से मिलता है। मोटे तौर पर इस बात से समझा जा सकता है कि सिनेमा और साहित्य दोनों ही विचारों की अभिव्यक्ति का माध्यम हैं किंतु सिनेमा साहित्य से अधिक पहुँच रखता है। बेशक साहित्य सर्जनात्मकता, सामाजिक सरोकारों और प्रतिबद्धताओं के लिए जाना जाता है किंतु एक समय था जब हिंदी सिनेमा ने दो बीघा जमीन, मदर इंडिया, जागते रहो, प्यासा, कागज के फूल, आवारा जैसी फिल्में दी जो निश्चित रूप से किसी यथार्थवादी उपन्यास से कम नहीं आँकी जा सकती। ये वो फिल्में थी सोद्देश्य बनाई गईं थी और इनका काम हल्के-फुल्के मनोरंजन तक ही सीमित नहीं था। 70 के दशक में जब समांतर सिनेमा अस्तित्व में आया तो निशांत, मंडी, अंकुर, दामुल, गर्म हवा, बाजार जैसी फिल्में सामने आईं। इन फिल्म…
ये जीत आम आदमी की...
राजनीति में आम आदमी का अस्तित्व और भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए यह जीत बहुत थी। भाजपा केवल और केवल जीतने के लिए चुनाव लड़ रही थी लेकिन आप पार्टी के लिए यह जिंदा रहने का संघर्ष था। भाजपा ने  इस चुनाव को अपनी नाक का प्रश्न बना लिया था लेकिन आप पार्टी की ध्यान केवल अपने लक्ष्य की ओर लगा था। यदि इस चुनाव में वह हार जाती तो शायद पूरी तरह बिखर जाती। बचती भी तो उसे फिर से खडा करने में कितना समय लगता, बता पाना मुश्किल है।
बिना किसी कोलाहल और शोर-शराबे के आप के वालंटियर अपना काम कर रहे थे। ये वालंटियर ही किसी पार्टी की रीढ़ की हड्डी होते हैं। कांग्रेस का सेवादल कभी ऐसे ही काम करता था, भाजपा के लिए संघ के स्वयंसेवक भी यही काम करते थे। सालों से पार्टी के लिए काम कर रहे भाजपा के कार्यकर्ताओं की घोर अनदेखी हुई और रातों-रात दूसरी पार्टियों के बगावती लोगों को शीर्ष पर बैठाने और टिकट बाॅंटने से भाजपा के कार्यकर्ता मायूसी और हताशा घिर गए और उन्होंने काम करने से पल्ला झाड़ लिया। नतीजतन भाजपा के नीचे से जमीन कब खिसक गई, उसे पता ही नहीं चला। इस चुनाव में भाजपा के प्रचार का स्तर अत्यंत …

उदास शाम

नित नया शून्य जो दिन-प्रतिदिन बड़ा होता जाता है। अपने चारों ओर खड़ी दीवारें जो धीरे-धीरे ऊँची होती जा रही हैं। इतनी ऊँची कि अब कुछ दिनांे बाद  लगता है कि आशा की कोई किरण भी उस तक मुश्किल पहुँच पाएगी। हर  रात के बाद एक सवेरा होता है किंतु काल-कोठरी के कैदी के लिए कोई सवेरा नहीं होता। उसके लिए होती है बस एक स्याह रात....... दिन रात!

भागना और भागते जाना , शायद यही नियति बन चुकी है। किससे भाग रहा हूँ? अपने वर्तमान से या उज्जवल भविष्य का पीछा करने के लिए ये अनवरत दौड़ जारी है। हर दिन शुरू होता है और उदास शाम के साथ समाप्त हो जाता है। शरीर और मन दोनों ही थक जाते हैं और लगता है वर्षांे की निष्फल अवधि में एक दिन और आज फिर जुड़ गया।

ये खीज..... ये निराशा.... ये हताशा...... ये असफलता ....... एक गहरे काले निराशा के मलबे में बदल जाती है और मन के सुप्त ज्वालामुखी की तली में जमती चली जाती है। फिर यकायक एक दिन वो ज्वालामुखी फूट पड़ता है, कहीं भी, कभी भी, किसी ओर भी। सालों का जमा वो मैल बाहर निकलने को दौड़ पड़ता है और हर तरफ लावा ही लावा। जो शायद जला देना चाहता है अपने आस-पास की हर रचना को। चूस लेना…