Skip to main content

पुस्तक मेलाः सिनेमा और साहित्य

गाँव-देहात का एक बालक जे. के. रोलिंग की ‘हैरी पॉटर’ नहीं पढ़ सकता क्योंकि उसकी इतनी क्षमता  नहीं कि वह इसका हिंदी अनुवाद पढ़ने के लिए छह-सात सौ की मोटी रकम खर्च कर सके। उसके लिए सिनेमा ही वह माध्यम है जहाँ वह 20-30 रूपए खर्च कर वही आनंद उठा सकता है जो धनाढ्य वर्ग के किसी पब्लिक स्कूल में जाने वाले बच्चे को इस पुस्तक के मूल अंग्रेजी संस्करण को पढ़ने से मिलता है। मोटे तौर पर इस बात से समझा जा सकता है कि सिनेमा और साहित्य दोनों ही विचारों की अभिव्यक्ति का माध्यम हैं किंतु सिनेमा साहित्य से अधिक पहुँच रखता है।
बेशक साहित्य सर्जनात्मकता, सामाजिक सरोकारों और प्रतिबद्धताओं के लिए जाना जाता है किंतु एक समय था जब हिंदी सिनेमा ने दो बीघा जमीन, मदर इंडिया, जागते रहो, प्यासा, कागज के फूल, आवारा जैसी फिल्में दी जो निश्चित रूप से किसी यथार्थवादी उपन्यास से कम नहीं आँकी जा सकती। ये वो फिल्में थी सोद्देश्य बनाई गईं थी और इनका काम हल्के-फुल्के मनोरंजन तक ही सीमित नहीं था।
1986_Smita_Patil70 के दशक में जब समांतर सिनेमा अस्तित्व में आया तो निशांत, मंडी, अंकुर, दामुल, गर्म हवा, बाजार जैसी फिल्में सामने आईं। इन फिल्मों के निर्माण से जुड़े सभी लोग समाज के बुद्धिजीवी वर्ग से आते थे। ये वो लोग थे जिनके अनुसार फिल्म मनोरंजन का नहीं बल्कि सामाजिक परिवर्तन की अलख जगाने का एक माध्यम बन सकती थी। इन लोगों में परिवर्तन की एक भूख थी, अभिनय कला की अभिव्यक्ति ही इनका उद्देश्य था। ओमपुरी, नसरूद्दीन शाह, स्मिता पाटिल, शबाना आजमी इन फिल्मों के माध्यम से भीड़ से अलग नजर आए। ये बात दीगर है कि बाजार की माँग के सामने समांतर सिनेमा ने जल्दी ही दम तोड़ दिया और स्मिता पाटिल को भी-‘आज रपट जाएँ तो हमें ने उठाइयो..’ की गुहार लगानी पड़ी।
साहित्य और सिनेमा एक-दूसरे को कमोबेश प्रभावित करते आए हैं। देश में साहित्यिक कृतियों पर फिल्में बनी हैं। एक समय था जब कई लोकप्रिय कवि सिनेमा में सक्रिय थे। गोपालदास ‘नीरज’, कवि प्रदीप, मजरूह सुल्तानपुरी, नरेंद्र शर्मा, गोपाल सिंह नेपाली, शैलेंद्र, गुलजार, साहिर लुधियानवी जैसे कई नाम हैं जिन्होंने फिल्मों के लिए तो गीत लिखें किंतु साहित्य में भी अपना एक मुकाम हासिल किया।
2012 के पुस्तक मेले का विषय ‘हिंदी सिनेमा के सौ वर्ष’ इन दो माध्यमों एक कड़ी में पिरोने का ही प्रयास है। इस बार किसी साहित्यिक विषय या किसी साहित्यकार को नहीं,  सिनेमा जैसे साधारण विषय को चुना गया है, जिसे वर्तमान साहित्यकार अव्वल तो दृश्य साहित्य की श्रेणी में रखने के नाम पर नाक-भौं सिकोड़ते हैं और मानते हैं भी तो दोयम दर्जे का।

Comments

  1. सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  2. उत्‍साहवर्धन के लिए आपका धन्‍यवाद

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

उदास शाम

नित नया शून्य जो दिन-प्रतिदिन बड़ा होता जाता है। अपने चारों ओर खड़ी दीवारें जो धीरे-धीरे ऊँची होती जा रही हैं। इतनी ऊँची कि अब कुछ दिनांे बाद  लगता है कि आशा की कोई किरण भी उस तक मुश्किल पहुँच पाएगी। हर  रात के बाद एक सवेरा होता है किंतु काल-कोठरी के कैदी के लिए कोई सवेरा नहीं होता। उसके लिए होती है बस एक स्याह रात....... दिन रात!

भागना और भागते जाना , शायद यही नियति बन चुकी है। किससे भाग रहा हूँ? अपने वर्तमान से या उज्जवल भविष्य का पीछा करने के लिए ये अनवरत दौड़ जारी है। हर दिन शुरू होता है और उदास शाम के साथ समाप्त हो जाता है। शरीर और मन दोनों ही थक जाते हैं और लगता है वर्षांे की निष्फल अवधि में एक दिन और आज फिर जुड़ गया।

ये खीज..... ये निराशा.... ये हताशा...... ये असफलता ....... एक गहरे काले निराशा के मलबे में बदल जाती है और मन के सुप्त ज्वालामुखी की तली में जमती चली जाती है। फिर यकायक एक दिन वो ज्वालामुखी फूट पड़ता है, कहीं भी, कभी भी, किसी ओर भी। सालों का जमा वो मैल बाहर निकलने को दौड़ पड़ता है और हर तरफ लावा ही लावा। जो शायद जला देना चाहता है अपने आस-पास की हर रचना को। चूस लेना…
ये जीत आम आदमी की...
राजनीति में आम आदमी का अस्तित्व और भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए यह जीत बहुत थी। भाजपा केवल और केवल जीतने के लिए चुनाव लड़ रही थी लेकिन आप पार्टी के लिए यह जिंदा रहने का संघर्ष था। भाजपा ने  इस चुनाव को अपनी नाक का प्रश्न बना लिया था लेकिन आप पार्टी की ध्यान केवल अपने लक्ष्य की ओर लगा था। यदि इस चुनाव में वह हार जाती तो शायद पूरी तरह बिखर जाती। बचती भी तो उसे फिर से खडा करने में कितना समय लगता, बता पाना मुश्किल है।
बिना किसी कोलाहल और शोर-शराबे के आप के वालंटियर अपना काम कर रहे थे। ये वालंटियर ही किसी पार्टी की रीढ़ की हड्डी होते हैं। कांग्रेस का सेवादल कभी ऐसे ही काम करता था, भाजपा के लिए संघ के स्वयंसेवक भी यही काम करते थे। सालों से पार्टी के लिए काम कर रहे भाजपा के कार्यकर्ताओं की घोर अनदेखी हुई और रातों-रात दूसरी पार्टियों के बगावती लोगों को शीर्ष पर बैठाने और टिकट बाॅंटने से भाजपा के कार्यकर्ता मायूसी और हताशा घिर गए और उन्होंने काम करने से पल्ला झाड़ लिया। नतीजतन भाजपा के नीचे से जमीन कब खिसक गई, उसे पता ही नहीं चला। इस चुनाव में भाजपा के प्रचार का स्तर अत्यंत …